Jitin Prasada Resign : जितिन प्रसाद मोदी सरकार 3.0 में संभालेंगे ये जिम्मेदारी, दिया अपने पद से इस्तीफा

जितिन प्रसाद मोदी सरकार 3.0 में संभालेंगे ये जिम्मेदारी, दिया अपने पद से इस्तीफा
UPT | जितिन प्रसाद

Jun 11, 2024 12:39

जितिन प्रसाद मोदी सरकार 3.0 में संभालेंगे ये जिम्मेदारी, दिया अपने पद से इस्तीफा

Jun 11, 2024 12:39

Lucknow News : उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार में लोक निर्माण विभाग के मंत्री जितिन प्रसाद ने 11 जून, 2024 को अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उनके इस्तीफे के बाद वह केंद्र सरकार में शामिल हो गए हैं। 9 जून, 2024 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें मोदी सरकार 3.0 में राज्य मंत्री के रूप में शपथ दिलाई थी।

ब्राह्मण चेहरे के तौर पर जाने जाते जितिन प्रसाद
जितिन प्रसाद उत्तर प्रदेश से बड़े ब्राह्मण चेहरे के तौर पर मोदी कैबिनेट में शामिल हुए हैं। उन्हें पीएम मोदी की टीम में शामिल करने का मकसद ब्राह्मण वोटरों को रिझाने का है। लोकसभा चुनाव 2024 से पहले यह कदम उत्तर प्रदेश में ब्राह्मण वोटरों को लुभाने की रणनीति का हिस्सा माना जा रहा है।

पीलीभीत सीट से जीते चुनाव
बीजेपी ने लोकसभा चुनाव 2024 में जितिन प्रसाद को उत्तर प्रदेश की पीलीभीत सीट से मैदान में उतारा था, जिसे वरुण गांधी की सीट कहा जाता हैं। पीलीभीत सीट पर जितिन की जीत ने उन्हें केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह दिला दी है।

जितिन प्रसाद का राजनीतिक सफर
साल 2021 में जितिन प्रसाद ने कांग्रेस से इस्तीफा देकर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में शामिल हो गए थे। इसके बाद उन्हें उत्तर प्रदेश विधान परिषद में मंत्रिमंडल का हिस्सा बनाया गया और 2022 में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश सरकार में शामिल किया गया। जितिन प्रसाद ने उत्तर प्रदेश में अपनी योगदान से महत्वपूर्ण छाप छोड़ी है। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के कैबिनेट मंत्री के रूप में काम किया है, जहां उन्होंने सरकार की विकास और इंफ्रास्ट्रक्चर की महत्वपूर्ण योजनाओं को प्रोत्साहित किया है। उनका अनुभव और कुशलता इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं के निर्माण और प्रबंधन में महत्वपूर्ण योगदान के रूप में माना जाता है।

Also Read

स्क्रैप ठेकेदार की साहस देखकर सब दंग, अधिकारी-कर्मचारी लिए गए हिरासत में

14 Jun 2024 10:45 PM

लखनऊ सीबीआई का रेलवे भंडारण विभाग पर छापा : स्क्रैप ठेकेदार की साहस देखकर सब दंग, अधिकारी-कर्मचारी लिए गए हिरासत में

गुरुवार को ठेकेदार स्क्रैप माल लेने के लिए रेलवे स्टोर पहुंचा था। इस दौरान, डीएसके के पद पर तैनात अविरल कुमार ने ठेकेदार से रिश्वत मांगी। ठेकेदार ने जैसे ही रिश्वत की रकम दी, सीबीआई ने अविरल कुमार को रंगे हाथों पकड़ लिया। और पढ़ें