जुलाई महीने में शादियों के चार शुभ मुहूर्त : 17 जुलाई से चातुर्मास शुरू, भद्रा के साथ लग्न व राहु का दोष

 17 जुलाई से चातुर्मास शुरू, भद्रा के साथ लग्न व राहु का दोष
UPT | जुलाई माह में शादी के शुभ मुहूर्त

Jul 12, 2024 02:45

शादी के लिए शुभ लग्न व मुहूर्त का होना बहुत जरूरी माना गया है। इसके लिए वृष, मिथुन, कन्या, तुला, धनु एवं मीन लग्न में किसी एक का होना जरूरी है।

Jul 12, 2024 02:45

Short Highlights
  • दस साल बाद जुलाई माह में इस बार शादी की लग्न कम
  • तमाम दोष के चलते शादी के शुभ मुहूर्त नहीं बन रहे 
  • मई और जून में भी शादियों के मुहूर्त पर लगा रहा विराम
Ghaziabad News : इस बार जुलाई माह में शादियों के सिर्फ चार मुहूर्त ही हैं। ऐसा दस साल बाद हो रहा है जबकि जुलाई माह में शादी की लग्न काफी कम है। इसके चलते इन दिनों की बुकिंग काफी पहले से हो चुकी हैं। कुछ लोगों ने गर्मी और बारिश के चलते इस महीने में शादी आयोजन से इंकार किया है। आने वाले दिनों में 17 जुलाई से चातुर्मास लग जाएगा।

जुलाई माह में हैं मात्र ये चार शादी मुहूर्त
इस बार जुलाई में मात्र चार ही शादी के शुभ मुहूर्त हैं। करीब 10 साल के बाद जुलाई माह में शादी के लिए इतने कम शुभ मुहूर्त हैं। शादी के लिए शुभ मुहूर्त नौ, 10, 11 और 12 जुलाई को है। जबकि जुलाई माह में अन्य दिनों के तमाम दोष के चलते शुभ मुहूर्त नहीं बन पा रहा है। 17 जुलाई से देवशयनी एकादशी को चातुर्मास शुरू होने से मांगलिक कार्यों पर विराम लगेगा।

मई और जून में भी शादियों के मुहूर्त पर ग्रहण 
इस बार गुरु व शुक्र ग्रह के अस्त होने से मई और जून माह में भी शादियों पके मुहूर्त पर विराम लगा रहा। लेकिन, दोनों ग्रहों के उदय होने के बाद मांगलिक कार्य शुरू तो हुए लेकिन शादी के लिए कुछ ही शुभ मुहूर्त मिले हैं। इसका कारण, चातुर्मास जल्दी आ जाने से शादी की लग्न नहीं बन रही है।

भद्रा और राहु, मृत्यु वाण दोष उत्तम नहीं 
पंडित भारत ज्ञान भूषण के अनुसार जुलाई के बाद नवंबर में विवाह की लग्न बन रही हैं। उन्होंने बताया कि 13, 14 और 15 जुलाई विवाह के ​लिए नक्षत्र योग हैं। लेकिन, भद्रा के अलावा राहु, मृत्यु वाण और लग्न दोष होने के कारण शादी के लिए ये उत्तम नहीं मानी जा रही है। 17 जुलाई को देवशयनी यानी हरिशयनी एकादशी को भगवान विष्णु शयन करने चले जाएंगे। इसके तुरंत बार ही चातुर्मास शुरू हो जाएगा।

इन दिनों में देवताओं का नहीं मिलता आशीर्वाद
चातुर्मास के दौरान मांगलिक कार्य नहीं होते। इस दौरान विवाह करने पर देवताओं का आशीर्वाद नहीं मिलता। जिससे वैवाहिक जीवन खुशहाल नहीं माना जाता है। शादी के लिए शुभ लग्न व मुहूर्त का होना बहुत जरूरी माना गया है। इसके लिए वृष, मिथुन, कन्या, तुला, धनु एवं मीन लग्न में किसी एक का होना जरूरी है। इसी के साथ उत्तम मुहूर्त के लिए रोहिणी, मृगशिरा या हस्त नक्षत्र तीनों में से किसी एक होना भी जरूरी है। 

Also Read

हापुड़ में एसपी और एएसपी के बाद अब कोतवाली प्रभारी का भी हुआ तबादला

18 Jul 2024 12:22 AM

हापुड़ Hapur News : हापुड़ में एसपी और एएसपी के बाद अब कोतवाली प्रभारी का भी हुआ तबादला

मेडिकल कॉलेज प्रबंधन की शिकायत पर शासन ने मंगलवार देर रात को एसपी अभिषेक वर्मा और एएसपी राजकुमार अग्रवाल को हटा दिया था। उनको मुख्यालय से अटैच किया गया था। और पढ़ें