advertisements
advertisements

Ayodhya News : गर्मी से आराध्य को बचाने के लिए रामनगरी के मंदिरों को फूलों से सजाया, सुरम्यता के वाहक बने मंदिर

गर्मी से आराध्य को बचाने के लिए रामनगरी के मंदिरों को फूलों से सजाया, सुरम्यता के वाहक बने मंदिर
UPT | कनक बिहारी सरकार अयोध्या जी।

Jun 11, 2024 02:04

वर्तमान में तापमान 42 से 45 डिग्री सेल्सियस बना हुआ है। ऐसे में भीषण गर्मी पर भक्त का यह स्वभाव-समर्पण फलक पर होता है। गर्मी से अपने आराध्य को बचाने के लिए यदि एयर कंडीशन लगाए जाने का चलन बढ़ता जा रहा है, तो आराध्य को फूल-बंगला से सज्जित करने की परंपरा भी सदियों से प्रवहमान है।

Jun 11, 2024 02:04

Ayodhya News : एसी, कूलर, पंखों के अलावा आराध्य को गर्मी से बचाने के लिए राम नगरी के मंदिरों को परंपरागत तौर पर फूल बंगला से सजाया गया है। अयोध्या धाम के मन्दिर फूल-बंगला से सजकर सुरम्यता के वाहक बने हैं। मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्रीराम के जन्मभूमि में भगवान रामलला, कनक भवन में बिहारी सरकार, हनुमानगढ़ी में श्री हनुमानजी महाराज तो मां सरयू के पावन तट पर शुभव्य फूल-बंगला झांकी सजायी गई है। झांकी काे वृंदावन से उच्चकोटि के संत जगतगुरु पीपाद्वारचार्य बलराम देवाचार्य महाराज ने अपनी सानिध्यता प्रदान की। भक्त भगवान के प्रति श्रेष्ठतम समर्पित करने की तैयारी रखता है। मौका कोई भी हो भक्त का यह चरित्र परिभाषित होता है।

वर्तमान में तापमान 42 से 45 डिग्री सेल्सियस बना हुआ है। ऐसे में भीषण गर्मी पर भक्त का यह स्वभाव-समर्पण फलक पर होता है। गर्मी से अपने आराध्य को बचाने के लिए यदि एयर कंडीशन लगाए जाने का चलन बढ़ता जा रहा है, तो आराध्य को फूल-बंगला से सज्जित करने की परंपरा भी सदियों से प्रवहमान है। इसके पीछे भाव यह होता है कि आराध्य को चहुंओर से शीतल, सुकोमल और शोभायमान पुष्पों से आच्छादित कर उनके सम्मान और उनकी सुविधा के प्रति कोई कसर न छोड़ी जाए।

बनारस, कन्नौज, कानपुर व कोलकाता से मंगाए गए फूल 
फूल बंगला से सज्जित किए जाने के प्रयास में भांति-भांति के क्विंटलों फूल की जरूरत होती है और यह जरूरत बनारस, कन्नौज, कानपुर से लेकर कोलकाता तक के। फूलों से पूरी होती है। इसे सज्जित करने के लिए परंपरागत रूप से प्रशिक्षित मालियों का एक खेमा है, जिनकी गर्मी के दिनों में बेहद मांग हो जाती है। जगद्गुरु पीपाद्वाराचार्य बलराम देवाचार्य महाराज बताते है कि मंदिरों में विराजमान भगवान के विग्रह संत-साधकों के लिए वस्तुतः अर्चावतार की भांति हैं। मंदिरों में प्राण प्रतिष्ठित देव प्रतिमा को सजीव माना जाता है। यही कारण है कि साधक संतों ने उपासना के क्रम में विराजमान भगवान के अष्टयाम सेवा पद्घति अपनाई। इस सेवा पद्घित में भगवान की भी सेवा जीव स्वरूप में ही की जाती है। जिस प्रकार जीव जैसे सोता, जागता है उसी प्रकार भगवान के उत्थापन व दैनिक क्रिया कर्म के बाद उनका श्रृंगार पूजन, आरती भोग-राग का प्रबंध किया जाता है।

इसी क्रम में भगवान को गर्मी से बचाने के लिए पुरातन काल में संतों ने फूलबंग्ला झांकी की परंपरा का भी शुभारंभ किया था, जिसका अनुपालन आज भी हम कर रहे है।पीपाद्वाराचार्य बलराम देवाचार्य महाराज कहते है कि हम जिन प्रसंगों एवं प्रयास से स्वयं को सुखी कर सकते हैं, वह सारा कुछ आराध्य के प्रति समर्पित करते हैं। फूल बंगला सजाए जाने की परंपरा मधुरोपासना की परिचायक है। इस उपासना परंपरा के हिसाब से भक्त के लिए भगवान मात्र प्रतीक नहीं, बल्कि चिन्मय चैतन्य विग्रह हैं और भक्त उनकी शान में किसी भी सीमा तक समर्पित होने को तैयार रहता है।आयोजन जगतगुरु पीपाद्वाराचार्य बलराम देवाचार्य महाराज वृंदावन और सभी भक्तों द्वारा किया जाता है।

Also Read

अयोध्या पहुंचे सांसद चंद्रशेखर आजाद रावण, भाजपा की हार पर अयोध्या वालों को दी बधाई

13 Jun 2024 08:11 PM

अयोध्या Ayodhya News अयोध्या पहुंचे सांसद चंद्रशेखर आजाद रावण, भाजपा की हार पर अयोध्या वालों को दी बधाई

नगीना लोकसभा क्षेत्र से नवनिर्वाचित सांसद चंद्रशेखर आजाद रावण गुरुवार को अयोध्या पहुंचे। धूप में 24 घंटे काम कर रहे पुलिस बल के लिए चिंता जताई और पढ़ें