advertisements
advertisements

परिजनों ने चाइल्ड केयर अस्पताल पर लगाए आरोप : इलाज के दौरान नवजात की मौत, फिर भी बढ़ता रहा निजी अस्पताल का बिल

इलाज के दौरान नवजात की मौत, फिर भी बढ़ता रहा निजी अस्पताल का बिल
UPT | परिजनों ने चाइल्ड केयर अस्पताल पर लगाए आरोप

Apr 02, 2024 19:28

शहर के कसाबबाड़ा मोहल्ले में स्थित श्री चाइल्ड केयर अस्पताल में बच्चे की इलाज के दौरान मौत होने का मामला तूल पकड़ लिया है।

Apr 02, 2024 19:28

Ayodhya News : शहर के कसाबबाड़ा मोहल्ले में स्थित चाइल्ड केयर अस्पताल में बच्चे की इलाज के दौरान मौत होने का मामला तूल पकड़ लिया है। पीड़ित के परिवार के लोगों का आरोप है कि अस्पताल बिल बनाता गया और बच्चे की मौत हो गई। इस मामले में सोमवार को ही परिवार के लोगों ने जमकर हंगामा किया, जिसके बाद नगर कोतवाली अयोध्या में तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की गई है।

यह है पूरा ममला
शहर के पहाड़गंज घोसियाना निवासी हिमांशु गौड़ ने नगर कोतवाली में दी तहरीर में कहा है कि उन्होंने अपनी पत्नी नैना को डिलीवरी के लिए 23 मार्च को देवकाली स्थित देवांश अस्पताल में भर्ती कराया था। उनको बेटी पैदा हुआ था। डॉक्टर ने बताया कि बच्चे को सांस लेने में समस्या हो रही है। इसे चाइल्ड केयर अस्पताल में भर्ती करा दो। हिमांशु रात में ही बच्चे को अस्पताल लेकर पहुंच गया। बताया कि उस समय उनका बच्चा स्वस्थ दिख रहा था। 31 मार्च को अस्पताल के डॉक्टर ने बच्चे को कहीं और दिखाने की बात कह दी। परिजनों का आरोप है कि भर्ती करते समय 14 हजार रुपये जमा कराए गए थे। इसके बाद जब डॉक्टर ने बच्चे को रेफर करने की बात कही तो 17 हजार रुपये जमा कराए। 

बच्चा मांगने पर किया इंकार
ननद पूजा ने बताया कि उन्होंने बच्चे को मांगा तो देने से मना कर दिया। इसके बाद बच्चे को एम्बुलेंस में ले जाने को कहा। पूजा ने बच्चा मांगा तो उसे नहीं दिया। पूजा का आरोप है कि एम्बुलेंस में एक आदमी को साथ जाने की बात कही गई। इसके बाद पूजा की बहन दीपा बच्चे को लेकर एम्बुलेंस में बैठ गई और हिदायत दी गई कि बच्चे से छेड़छाड़ न करना। इसके बाद मेडिकल कॉलेज ले जाया गया। पूजा का आरोप है कि वहां चिकित्सकों ने बताया कि बच्चे की मौत हो चुकी है।


नवजात की तबीयत गड़बड़ थी : डॉ. साक्षी
देवांश हॉस्पिटल की डॉ. साक्षी ने बताया कि यह बात सही है कि मेरे यहां बच्चे की डिलीवरी हुई थी। तबियत गड़बड़ थी। उसे चाइल्ड केयर में भर्ती कराया गया था। मैं अस्पताल गई थी। डॉक्टर से मुलाकात नहीं हो पाई थी। मुझे जानकारी मिली है कि बच्चे की मौत हो गई है।

बेबुनियाद है सभी आरोप : डॉ. सचिन राय
चाइल्ड केयर अस्पताल के डॉ. सचिन राय का इस मामले में कहना है कि परिजनों के द्वारा लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद और झूठे हैं। नवजात बच्चे की तबियत पहले से ही गड़बड़ थी। इसकी जानकारी परिजनों को दे दी गई थी। अब निराधार आरोप लगाया जा रहा है।

परिजन पोस्टमार्टम के लिए तैयार नहीं : नगर कोतवाल
नगर कोतवाली प्रभारी अश्वनी पांडेय ने बताया कि परिजनों ने शिकायत दी थी। विधिक कार्रवाई के लिए मामले को आगे बढ़ाया गया। साथ ही पोस्टमार्टम कराने के लिए कहा गया, ताकि मौत के कारण स्पष्ट हो जाएं। पोस्टमार्टम के लिए परिजन तैयार नहीं हुए हैं।

Also Read

अवध यूनिवर्सिटी की वार्षिक परीक्षाओं के लिए 25 अप्रैल तक भरे जाएंगे ऑनलाइन परीक्षा फॉर्म

18 Apr 2024 10:17 PM

अयोध्या Ayodhya News : अवध यूनिवर्सिटी की वार्षिक परीक्षाओं के लिए 25 अप्रैल तक भरे जाएंगे ऑनलाइन परीक्षा फॉर्म

विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक उमानाथ ने बताया कि कुलपति प्रो. प्रतिभा गोयल के निर्देश पर छात्रहित को देखते हुए तिथि विस्तारित की गई है। उक्त से संबंधित छात्र-छात्राएं 25 अप्रैल तक ऑनलाइन परीक्षा फार्म भर सकेंगे। और पढ़ें