अपहरण या मोहब्बत में उलझी किशोरी की मौत की कहानी : बरेली की लड़की का हावड़ा में मिला शव, परिजनों ने किया प्रदर्शन, जानें मामला...

बरेली की लड़की का हावड़ा में मिला शव, परिजनों ने किया प्रदर्शन, जानें मामला...
UPT | मृतक किशोरी के परिजन हंगामा करते हुए।

Jul 10, 2024 21:33

किशोरी 12 दिन से गायब थी। गांव के लोगों ने बताया कि किशोरी गांव के एक किशोर के साथ गई थी। लेकिन मृतक किशोरी के परिजनों ने आरोपी युवक और उसके परिजनों पर अपहरण का आरोप लगाया है।

Jul 10, 2024 21:33

Bareilly News : शहर के कैंट थाना क्षेत्र के चनहेटा गांव निवासी किशोरी का शव वेस्ट बंगाल (पश्चिम बंगाल) के हावड़ा रेलवे स्टेशन के ट्रैक के पास मिला है। इसके बाद परिजनों ने बुधवार को जमकर हंगामा किया। लड़की की मौत से खफा परिजनों ने कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया। एडीएम की गाड़ी के सामने जमकर नारेबाजी की और अपने लिए न्याय मांगा। एसएसपी अनुराग आर्य के निर्देश पर पुलिस ने लड़के को गिरफ्तार कर लिया है। मामले की गहराई से जांच की जा रही है।

किशोरी 12 दिन से गायब थी। गांव के लोगों ने बताया कि किशोरी गांव के एक किशोर के साथ गई थी। लेकिन मृतक किशोरी के परिजनों ने आरोपी युवक और उसके परिजनों पर अपहरण का आरोप लगाया है। आरोपी ने थाने में जाकर सरेंडर कर दिया। पुलिस आरोपी के खिलाफ कार्रवाई कर जेल भेजने की तैयारी में जुटी है। मृतका 27 जून से गायब थी। इसके चलते परिजनों ने कैंट थाने में 28 जून को अपनी 14 वर्षीय बेटी के अपहरण की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसमें बेटी के अपहरण का आरोप शेखर मौर्य, उसके पिता मूलचंद, मां नाथू देवी, भाई सूरज और अर्जुन पर लगाया। किशोरी के परिजनों ने हत्या का आरोप लगाकर धाराएं बढ़ाने की मांग की हैं। 

घर से गई थी किताब खरीदने
परिजनों ने पुलिस को बताया था कि उनकी बेटी 27 जून को किताब खरीदने की बात कहकर घर से गई थी। लेकिन वह घर नहीं लौटी। इसके बाद काफी तलाश की, लेकिन वह नहीं मिली। इसके बाद गांव वालों ने बताया कि उसे शेखर मौर्य अपने परिजनों की मदद से अपहरण कर ले गया है। यह सूचना पुलिस को दी थी।

रुपये खत्म होने पर दोनों ने बनाया जान देने का प्लान
बरेली की कैंट थाना पुलिस किशोरी की तलाश में जुटी थी। इसी दौरान आरोपी शेखर ने कैंट थाने में सरेंडर (समर्पण) कर दिया। उसने पुलिस को बताया कि वह और किशोरी घर से खुद निकले थे। वेस्ट बंगाल के हावड़ा में एक होटल में ठहरे थे। लेकिन हमारे रुपये खत्म हो गए। जिसके चलते उसने किशोरी से घर चलने के लिए कहा, लेकिन उसने घर आने से इंकार कर दिया। इसके बाद भी वह जिद करके उसे ट्रेन से बरेली लेकर लौट रहा था। वह अपने परिजनों के डर से घर नहीं आना चाहती थी। इसी दौरान रास्ते में दोनों ने आत्महत्या का फैसला किया। दोनों एक साथ चलती ट्रेन से हावड़ा जंक्शन के पास कूद गए। शेखर ने बताया कि मैं बेहोश हो गया था। उसे होश आया, तो किशोरी वहां नहीं थी। काफी तलाश की। इसके बाद दूसरी ट्रेन से बरेली आ गया।

परिजनों ने शिनाख्त कर किया अंतिम संस्कार 
मृतक किशोरी के परिजन पुलिस के साथ हावड़ा पहुंच गए हैं। वहां मोर्चरी में रखे किशोरी के शव की शिनाख्त की। इसके बाद बंगाल में ही अंतिम संस्कार कर दिया। कैंट थाना प्रभारी जगनरायण पांडेय ने मीडिया को बताया कि पश्चिम बंगाल से कैंट थाने की टीम लौटकर आ रही है। पोस्टमार्टम और पुलिस कार्रवाई का रिकॉर्ड मंगाया है। उसका परीक्षण कर आरोपी पर कार्रवाई के बारे में निर्णय लिया जाएगा। 

Also Read

कंट्रोल बॉक्स विद्युत उपकेंद्र में नहीं, झोपड़ी के पास खुले आसमान के नीचे रखें, जानें क्यों....

17 Jul 2024 07:08 PM

बरेली बिजली विभाग का खेल : कंट्रोल बॉक्स विद्युत उपकेंद्र में नहीं, झोपड़ी के पास खुले आसमान के नीचे रखें, जानें क्यों....

यूपी पॉवर कारपोरेशन के चेयरमैन डॉ.आशीष गोयल ने बरेली के लापरवाह बिजली अफसरों को सुधार की चेतवानी दी थी। मगर, उनकी चेतवानी के बाद भी बिजली विभाग के जिले में मुखिया से लेकर मातहतों में कोई सुधार दिखाई नहीं दे रहा है। और पढ़ें