advertisements
advertisements

इटावा सांसद बोले : शिवपाल को बीजेपी में खुला ऑफर, चाचा-भतीजे एक हुए पर दिल नहीं मिले

शिवपाल को बीजेपी में खुला ऑफर, चाचा-भतीजे एक हुए पर दिल नहीं मिले
UPT | शिवपाल सिंह यादव

Apr 03, 2024 17:09

सांसद रामशंकर कठेरिया ने शिवपाल यादव को बीजेपी की सदस्यता ग्रहण करने का ऑफर दिया है। उन्होंने कहा कि उनका बीजेपी में जोरदार स्वागत है। उन्हें बदायूं सीट पर हार का खतरा मंडरा रहा है। इस लिए बेटे आदित्या को लड़ाना चाहते हैं।

Apr 03, 2024 17:09

Etawah News: यूपी के इटावा से सांसद और पूर्व केंद्रीय राज्यमंत्री रामशंकर कठेरिया ने शिवपाल सिंह यादव को बीजेपी में शामिल होने का खुला ऑफर दिया है। उन्होंने कहा कि यदि शिवपाल सिंह यादव बीजेपी में आते हैं, तो उनका जोरदार स्वागत किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव और शिवपाल सिंह यादव एक हो गए हैं लेकिन उनके दिल नहीं मिले हैं।

सांसद रामशंकर कठेरिया ने पत्रकार वार्ता करते हुए कहा कि सपा मुखिया अखिलेश यादव पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि मुलायम सिंह ने बड़ी मेहनत और तपस्या से पार्टी को खड़ा किया था। लेकिन उनके बेटे अखिलेश यादव ने पूरी पार्टी बर्बाद कर दिया है। उनकी गलत नीतियों की वजह से यादव वर्ग के नेता एक-एक कर छोड़कर जा रहे हैं। उनके अंदर नेतृत्व करने की क्षमता नहीं है।

बीजेपी रिकॉर्ड वोटों से जीत रही
रामशंकर कठेरिया से पूछा गया कि शिवपाल सिंह बेटे को बदायूं से लड़ाना चाहते हैं। इस सवाल का जवाब देते हुए कहा कि बदायूं सीट पर बीजेपी रिकॉर्ड वोटों से जीत रही है। उन्हें अपनी हार का डर सता रहा है। अपनी इज्जत बचाने के लिए बदायूं सीट से अपने बेटे आदित्या को लड़ाना चाहते हैं।

रामगोपाल एक ही सीट पर कर रहे हैं प्रचार
रामशंकर कठेरिया ने सपा के राष्ट्रीय प्रमुख महासचिव रामगोपाल यादव को भी आड़े हाथ लिया। उन्होंने कहा कि अपने बेटे अक्षय यादव को फिरोजाबाद सीट से जिताने के लिए उसी सीट पर सिर्फ प्रचार-प्रसार कर रहे हैं। जबकि फिरोजाबाद सीट का क्या मिजाज हैं, इस बात को सभी जानते हैं। बीजेपी यह सीट भी रिकॉर्ड वोटों से जीत रही है।
 

Also Read

आईआईटी में निदेशक पद पर हुई नियुक्ति, जानें किसे मिली यह जिम्मेदारी

19 Apr 2024 01:33 AM

कानपुर नगर Kanpur News : आईआईटी में निदेशक पद पर हुई नियुक्ति, जानें किसे मिली यह जिम्मेदारी

सितंबर 2023 में अभय करंदीकर को भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग में सचिव नियुक्त कर दिया गया था। तब से यह पद खाली चल रहा था। प्रो. मणीन्द्र अग्रवाल आईआईटी कानपुर के पूर्व छात्र भी हैं। और पढ़ें