advertisements
advertisements

Kanpur News : डीआईओएस दफ्तर में पुलिस ने की छापेमारी, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान

डीआईओएस दफ्तर में पुलिस ने की छापेमारी, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान
UPT | डीआईओएस दफ्तर में जांच करती पुलिस

Jun 12, 2024 02:12

शिक्षक भर्ती में हुए फर्जीवाड़ा का खुलासा होने के बाद कानपुर पुलिस एक बार फिर से एक्शन मूड में दिखाई दी। कानपुर की कर्नलगंज पुलिस ने मामले की छानबीन करते हुए मंगलवार को...

Jun 12, 2024 02:12

Kanpur News : शिक्षक भर्ती में हुए फर्जीवाड़ा का खुलासा होने के बाद कानपुर पुलिस एक बार फिर से एक्शन मूड में दिखाई दी। कानपुर की कर्नलगंज पुलिस ने मामले की छानबीन करते हुए मंगलवार को बेनाझाबर स्थित डीआईओएस कार्यालय में छापेमारी कर जरूरी साक्ष्य एकत्र किए। पुलिस द्वारा की गई अचानक छापेमारी के दौरान डीआईओएस दफ्तर में हड़कंप मच गया। 9 शिक्षको की फर्जी तरह से हुई नियुक्ति के मामले में कर्नलगंज पुलिस मामले की जांच कर रही थीं।

पुलिस को देख मचा हड़कंप
डीसीपी सेंट्रल आरएस गौतम ने बताया कि शिक्षको की फर्जी तरह से नियुक्ति के मामले में पुलिस जांच कर रही थी। इसी क्रम में मंगलवार को एसीपी कर्नल गंज महेश कुमार ने कर्नल गंज थाना प्रभारी सहित मय फ़ोर्स के साथ छापेमारी की। जैसी ही पुलिस डीआईओएस दफ्तर पहुंची वैसे ही दफ्तर में पुलिस को देख हड़कम्प मच गया। छापेमारी के दौरान नौ शिक्षकों के भर्ती से संबंधित दस्तावेज की जांच में भारी गड़बड़ी दिखाई दी। जांच में पता चला कि बिना जांच किये शिक्षको को नियुक्ति पत्र वितरण कर दिए गए। नियुक्ति से संबंधित जिस ईमेल को क्लर्क द्वारा देखा जाना था। उसे क्लर्क ने देखा ही नहीं और तत्कालीन जिला विद्यालय निरीक्षक फतेह बहादुर सिंह ने फर्जी भर्ती से संबंधित ईमेल को खुद देखने के बाद संज्ञान लेकर खुद नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू कर दी थी।

9 शिक्षकों में से एक का भी नहीं कराया सत्यापन
पुलिस जांच में पता चला कि नियुक्ति से संबंधित किसी भी मानक को पूरा नहीं किया गया। जिला विद्यालय निरीक्षक से लेकर बाबू तक ने आंख बंद करके फर्जी ईमेल के माध्यम से शिक्षकों की नियुक्ति कर दी। जबकि किसी भी नियुक्ति में सबसे अहम सत्यापन होता है। सबसे बड़ी बात यह है कि 9 शिक्षकों में से एक का भी सत्यापन नहीं कराया गया और नियुक्ति पत्र जारी कर दिया गया।

पुलिस ने एंट्री रजिस्टर समेत भर्ती से जुड़ी तमाम फाइलें कब्जे में ली
डीसीपी ने बताया कि जांच के बाद फर्जी शिक्षक भर्ती में शामिल डीआईओएस दफ्तर के कर्मचारियों की भी गिरफ्तारी की जाएगी। बाबू से लेकर डीआईओएस तक सबके बयान दर्ज किए जाएंगे। डीसीपी ने बताया कि जांच के दौरान डीआईओएस को माध्यमिक शिक्षा निदेशालय से आने वाली ईमेल, रजिस्टर की जांच की गई। जांच के दौरान पाया गया कि ईमेल रजिस्टर पर नियुक्ति से संबंधित ईमेल दर्ज ही नहीं है। निदेशालय की ईमेल को देखने वाली शिल्पा यादव ने बताया कि तत्कालीन Dios ने ईमेल को खुद संज्ञान लिया था। इसके चलते इस ईमेल को रजिस्टर में चढ़ाया नहीं गया। पुलिस ने एंट्री रजिस्टर समेत भर्ती से जुड़ी तमाम फाइलें समेत अन्य दस्तवेजो को भी कब्जे में ले लिया है।

Also Read

प्रियंका गांधी ने एक्स पर पोस्ट कर सरकार पर साधा निशाना

13 Jun 2024 06:26 PM

कानपुर नगर यूपी में सब इंस्पेक्टर के पद पर आउटसोर्सिंग के जरिए भर्ती पर विचार : प्रियंका गांधी ने एक्स पर पोस्ट कर सरकार पर साधा निशाना

यूपी में आउटसोर्सिंग के जरिए सब इंस्पेक्टर पदों की भर्ती पर विचार किया जा रहा है। इसके लिए पुलिस अधिकारियों को पत्र लिखकर उनकी राय मांगी गई है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोशल मीडिया प्लेटफार्म एक्स पर पोस्ट कर निशाना साधा है। और पढ़ें