advertisements
advertisements

हरदोई का युवराज हत्याकांड : 11 दिन पहले मर्डर, आरोपी भी गिरफ्तार, फिर क्यों हरदोई में तनाव और बवाल…

11 दिन पहले मर्डर, आरोपी भी गिरफ्तार, फिर क्यों हरदोई में तनाव और बवाल…
UPT | प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लेती पुलिस

Jun 12, 2024 02:28

उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले में 11 दिन पहले हुए युवराज हत्याकांड की आंच अभी ठंडी नहीं हुई है। मंगलवार को पाली इलाके में जमकर बवाल हुआ। नौबत यहां तक आ गई कि पुलिस को...

Jun 12, 2024 02:28

Short Highlights
  • मंगलवार को पाली इलाके में जमकर हुआ बवाल 
  • प्रदर्शनकारियों पर छोड़ने पड़े आंसू गैस के गोले 
  • एक बटालियन पीएसी और पुलिस फोर्स तैनात
  • तनाव को देखते हुए क्षेत्र में लगा दी गई धारा 144 
Hardoi News : उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले में 11 दिन पहले हुए युवराज हत्याकांड की आंच अभी ठंडी नहीं हुई है। मंगलवार को पाली इलाके में जमकर बवाल हुआ। नौबत यहां तक आ गई कि पुलिस को प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े और मौके पर एक बटालियन पीएसी तैनात करनी पड़ी। इसके अलावा प्रशासन द्वारा क्षेत्र में धारा 144 भी लगा दी गई है। फिलहाल इलाके में भारी पुलिस बल तैनात है। करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीरेंद्र प्रताप सिंह ‘वीरू’ और बसपा नेता राजवर्धन सिंह ‘राजू’ को पुलिस ने पहले तो हिरासत में लिया, फिर बाद में गिरफ्तार कर लिया।

क्या है मामला
मामला मई महीने की 30 तारीख का है। हरदोई जिले में लोकसभा चुनाव की वोटिंग चौथे चरण में 13 मई को हुई थी। वोटिंग के करीब 17 दिन बाद पाली थाना क्षेत्र के इस्माइलपुर गांव निवासी युवराज नाम के युवक की गांव के ही रहने वाले कामरान नाम के युवक ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। वारदात को अंजाम देने में कामरान के तीन अन्य नाबालिग साथियों ने भी उसका साथ दिया। मृतक युवराज के चाचा ने बताया था कि युवराज ने बीजेपी प्रत्याशी के पक्ष में वोट किया था। जब इस बात की जानकारी कामरान को हुई, तो वह युवराज से काफी चिढ़ गया।

युवराज की हत्या के बाद चाचा ने यह लगाया था आरोप 
मृतक के चाचा का आरोप है कि इसी खुन्नस में 30 मई को कामरान ने पहले तो युवराज से कहासुनी की, फिर तमंचा निकाल कर उसको गोली मार दी। गोली सीधे युवराज के सीने में जा लगी, जिससे वह वहीं जमीन पर गिर पड़ा। वारदात को अंजाम देने के बाद कामरान अपने तीन अन्य साथियों के संग मौके से फरार हो गया। आनन-फानन में युवराज को अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस आरोपियों की तलाश में जुट गई। इसी बीच एक दिन पुलिस की कामरान से मुठभेड़ हो गई। मुठभेड़ में गोली लगने से कामरान घायल हो गया। पुलिस ने कामरान तीनों नाबालिग साथियों को भी पकड़ लिया और बाल सुधार गृह भेज दिया।

आरोपियों के घर बुलडोजर चलाने की मांग
युवराज की हत्या के बाद जिले में राजनीतिक माहौल गर्म हो गया। बसपा नेता राजवर्धन सिंह ‘राजू’ ने जहां मामले को गंभीरता से उठाया तो वहीं करणी सेना भी इसमें कूद पड़ी। करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीरेंद्र प्रताप सिंह ‘वीरू’ ने बीते दिनों मृतक युवराज के परिजनों से मुलाकात की थी और मामले की पूरी जानकारी ली थी। उन्होंने पुलिस-प्रशासन ने मांग की थी कि केवल आरोपियों को पकड़ने से काम नहीं चलेगा। इनके घर पर बुलडोजर चलाया जाए और कड़ी कार्रवाई की जाए। अगर पुलिस-प्रशासन कोई हीला-हवाली करेगा तो जोरदार प्रदर्शन किया जाएगा.

हत्या के 10 दिन के बाद भी राजनीतिक गर्म
करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीर प्रताप सिंह ‘वीरू’ ने फेसबुक पोस्ट कर 11 जून को पाली पहुंचने का आवाह्न किया था। उनके आगमन को देखते हुए बसपा नेता राजवर्धन सिंह ‘राजू’ की अगुवाई में सुबह से ही पाली में प्रदर्शन होने लगा। दूसरी तरफ करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष के पाली पहुंचने की सूचना मिलते ही पुलिस ने जिले में बॉर्डर पर जगह-जगह नाकेबंदी कर दी। दोपहर बाद धारा 144 का हवाला देते हुए पुलिस ने बसपा नेता राजवर्धन सिंह ‘राजू’ और प्रदर्शनकारियों को जाने को कहा, लेकिन वह अपनी जगह से नहीं उठे।

उपद्रव मामले में यह लोग लिए गए हिरासत में 
इसी बीच पुलिस ने राजवर्धन सिंह ‘राजू’ को हिरासत में ले लिया। जिससे उनके समर्थक उग्र हो गए और पुलिस पर ही पथराव कर दिया। बवाल बढ़ता देख पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले छोड़े। साथ ही हल्का बल प्रयोग करना पड़ा। पुलिस ने राजवर्धन सिंह ‘राजू’ समेत उनके पांच समर्थकों को गिरफ्तार कर लिया। वहीं हरदोई की सीमा में घुस रहे करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीरेंद्र प्रताप सिंह ‘वीरू’ को मल्लावां बॉर्डर से गिरफ्तार कर लिया।

पाली में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात
फिलहाल पाली में तनाव की स्थिति को देखते हुए एसपी केशव चंद्र गोस्वामी के निर्देश पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। एसपी केशव चंद्र गोस्वामी ने बताया कि एक प्लाटून पीएसी समेत कई थानों की पुलिस को शांति-व्यवस्था स्थापित करने के लिए पाली में तैनात कर दिया गया है। गिरफ्तार आरोपियों पर धारा 144 के उल्लंघन समेत कई धाराओं में विधिक कार्रवाई की जा रही है। युवराज हत्याकांड के मामले में पुलिस पहले भी कार्रवाई कर चुकी है। आरोपियों को पकड़ लिया गया है। किसी भी प्रकार से उपद्रव करने वालों को बक्शा नहीं जाएगा।

बोले एसपी- बेवजह राजनीति करने वालों पर होगी कार्रवाई
एसपी केशव चंद्र गोस्वामी ने बताया कि पुलिस युवराज हत्याकांड के हर एंगल पर जांच कर कार्रवाई कर रही है। परिवार के लगाए गए आरोप की भी पुलिस जांच कर रही है। मामले पर बेवजह की राजनीति करते हुए शांति-व्यवस्था भंग करने वालों पर भी सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। कुल मिलाकर पाली में हुए आज के इस घटनाक्रम के बाद स्थिति अंडर कंट्रोल में है। बड़ी संख्या में पुलिस के जवानों को शांति-व्यवस्था बहाल करने के लिए लगा दिया गया है।

Also Read

बोले- कभी भी गिर सकती है केंद्र की लंगड़ी सरकार

13 Jun 2024 07:28 PM

लखनऊ चंद्रशेखर आजाद की नीट मामले में आंदोलन की चेतावनी : बोले- कभी भी गिर सकती है केंद्र की लंगड़ी सरकार

सांसद चंद्रशेखर आजाद ने नीट मामले में आंदोलन की चेतावनी दी है। उन्होंने सहयोगी दल की मदद से चल रही भाजपा सरकार पर कटाक्ष किया। वहीं भीषण गर्मी में ड्यूटी पर तैनात पुलिस बल के लिए चिंता जताई और ये मामला संसद में उठाने की बात कही। और पढ़ें