advertisements
advertisements

Ghaziabad News : मंदिर के फूलों से बनाई जा रही धूपबत्ती, प्लास्टिक बोतलों से बने हैंगिंग बॉस्केट

मंदिर के फूलों से बनाई जा रही धूपबत्ती, प्लास्टिक बोतलों से बने हैंगिंग बॉस्केट
UPT | कचरा पृथककरण के बारे में जागरूक करती गाजियाबाद नगर निगम की टीम।

Jun 11, 2024 09:55

गाजियाबाद के मंदिरों में चढे पूजा के फूलों से घरों में धूपबत्ती बनाई जा रही है। जबकि  प्लास्टिक बोतलों से हैंगिंग बॉस्केट बनाने का काम

Jun 11, 2024 09:55

Short Highlights
  • गाजियाबाद नगर निगम के अभियान से जागरूक हो रहा शहर
  • गृहणियां कर रही कचरा पृथक्करण तथा वेस्ट से बेस्ट मुहिम पर काम
  • गाजियाबाद शहर की सफाई में महिलाओं की अहम भागीदारी 
गाजियाबाद शहर को स्वच्छ बनाने में महिलाओं का विशेष योगदान है। गाजियाबाद को स्वच्छ बनाने की मुहिम में नगर निगम लोगों को जागरूक करने में सफल रहा है। गाजियाबाद के मंदिरों में चढे पूजा के फूलों से घरों में धूपबत्ती बनाई जा रही है। जबकि  प्लास्टिक बोतलों से हैंगिंग बॉस्केट बनाने का काम किया जा रहा है। गाजियाबाद में वेस्ट से बेस्ट की मुहिम को बढ़ावा दिया जा रहा है। 

कचरा सेपरेशन को लेकर शहरवासियों को जागरूक
गाजियाबाद नगर निगम द्वारा कचरा सेपरेशन को लेकर शहरवासियों को जागरूक करने की मुहिम चलाई जा रही है। इसके लिए डोर टू डोर कूड़ा उठाने के अलावा कचरा रेपरेशन के लिए लोगों को जागरुक किया जा रहा है। नगर आयुक्त विक्रमादित्य सिंह मलिक के निर्देश पर स्वच्छ भारत मिशन की टीम अभियान के रूप में सभी वार्डों में जाकर लोगों को कचरा सेपरेशन के लिए जागरुक कर रही है।

डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन वाहनों को चार पार्ट में बांटा
डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन वाहनों को चार पार्ट में बांटा गया है। जिनके लिए एसबीएम टीम लोगों को जागरुक करते हुए अलग-अलग पार्ट में कचरे के प्रकार के क्रम में कचरा डलवा रहे हैं। इसी के साथ घरों के अंदर गीला कूड़ा अलग तथा सूखा कूड़ा अलग करने के लिए अपील कर रहे है। जिसमें गाजियाबाद नगर निगम का अभ्यिान सफलता होता प्रतीत हो रहा है। शहर के निगम के पांचों जोन में अधिकांश घरों में गीला कचरा अलग तथा सूखा कचरा अलग करके रखा जा रहा है। यह सराहनीय पहल है। 

घर की महिलाओं ने कचरा सेपरेशन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई
घर की महिलाओं ने कचरा सेपरेशन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। महिलाओं की इस भूमिका से गाजियाबाद नगर निगम को सहयोग मिला है। महिलाएं अपने घरों में दो प्रकार के डस्टबिन रखे हैं। जिसमें एक में गीला कचरा तथा दूसरे में सूखे कचरे रख रही हैं। गृहणियों द्वारा कचरे को अलग कर वेस्ट से बेस्ट का कार्य किया जा रहा है। जिस शहर के कदम स्वच्छता की ओर बढ़ रहे हैं। कवि नगर जोन अंतर्गत सबसे अधिक बेस्ट सेपरेशन पर काम हो रहा है। 

मंदिरों के फूलों से एकत्र होने वाले वेस्ट से धूपबत्ती
गाजियाबाद नगर निगम द्वारा चलाए जागरूकता अभियान से प्रेरित होकर वार्ड संख्या 45 करेड़ा  मोहन नगर में कई कुशल गृहणियों द्वारा घरों पर मंदिरों के फूलों से एकत्र होने वाले वेस्ट से धूपबत्ती बनाने का काम किया जा रहा है। वेस्ट सूखे कचरे से उपयोगी वस्तुएं बनाने का कार्य भी हो रहा है। जिसमें पेंसिल स्टैंड, हैंगिंग बॉस्केट, नाइट लैंप,कपड़े का थैला बनाया जा रहा है। 

Also Read

नेत्र रोग विभाग में दी रेटिना बीमारी के बारे में जानकारी, जाने क्या है रेटिनाइटिस पिगमेंटोसा

13 Jun 2024 07:40 PM

मेरठ LLRM Meerut : नेत्र रोग विभाग में दी रेटिना बीमारी के बारे में जानकारी, जाने क्या है रेटिनाइटिस पिगमेंटोसा

ये अंधे धब्बे परिधीय दृष्टि को कम करने में प्रगति करते हैं। यह रोग समय के साथ बढ़ता है और अंततः केंद्रीय दृष्टि को प्रभावित करता है, जो पढ़ने, ड्राइविंग और चेहरों को पहचानने जैसे कार्यों के लिए आवश्यक है। और पढ़ें