advertisements
advertisements

Meerut News : एनसीआरटीसी की माई नमो भारत-माई प्राइड-ड्राइंग प्रतियोगिता में स्कूली छात्रों ने दिखाई प्रतिभा

एनसीआरटीसी की माई नमो भारत-माई प्राइड-ड्राइंग प्रतियोगिता में स्कूली छात्रों ने दिखाई प्रतिभा
UPT | एनसीआरटीसी द्वारा स्कूलों में करवाई गई नमो भारत प्रतियोगिता में भाग लेतीं छात्राएं।

May 15, 2024 16:43

ड्राइंग प्रतियोगिता के साथ-साथ मनोरंजक नुक्कड़ नाटकों के माध्यम से छात्रों को नमो भारत ट्रेन और आरआरटीएस की उपयोगिता, महत्व, आवश्यकता...

May 15, 2024 16:43

Short Highlights
  • भावी पीढ़ी नमो भारत ट्रेन की खूबियों से हुई अवगत
  • दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ कॉरिडोर के आसपास के स्कूलों में प्रतियोगिता
  • मोदीनगर और मेरठ के स्कूलों ने लिया प्रतियोगिता में भाग 
NCRTC News : एनसीआरटीसी, भावी पीढ़ी को अत्याधुनिक विश्वस्तरीय रीजनल रैपिड ट्रांसिट सिस्टम (आरआरटीएस) से रूबरू करवाने के लिए दिल्ली-गाजियाबाद- मेरठ कॉरिडोर के आसपास के स्कूलों में माय नमो भारत-माय प्राइड, ड्राइंग प्रतियोगिता आयोजित कर रही है। इन प्रतियोगिताओं  में कई स्कूलों के बच्चों ने हिस्सेदारी करके अपनी प्रतिभा का उत्कर्ष प्रदर्शन किया है। इन प्रतियोगिताओं में बेहतर प्रदर्शन करने वाले छात्र छात्राओं को एनसीआरटीसी द्वारा पुरस्कृत भी किया जा रहा है।

एक हजार छात्रों ने लिया भाग 
इस ड्राइंग प्रतियोगिता अभियान में अब तक मोदी नगर और मेरठ के 5 स्कूलों के लगभग एक हज़ार छात्रों ने भाग लिया। इन स्कूलों में मोदी नगर स्थित केएन मोदी ग्लोबल स्कूल, हेरिटेज अकेडमी, मॉडर्न अकेडमी, एएमएम पब्लिक स्कूल और मेरठ स्थित प्रेसिडेंसी पब्लिक स्कूल शामिल हैं। 

कल्पनाशीलता को चित्रित करने के लिए एक घंटे का समय दिया
इन स्कूलों के छात्रों ने अपने चित्रों में स्वच्छ और हरित परिवहन माध्यम के विभिन्न पहलुओं को दर्शाने का प्रयास किया। छात्रों को अपने स्कूलों में अपनी कल्पनाशीलता को चित्रित करने के लिए एक घंटे का समय दिया गया था, जिसका उन्होंने बहुत अच्छे से उपयोग किया। ड्राइंग प्रतियोगिता के साथ-साथ मनोरंजक नुक्कड़ नाटकों के माध्यम से छात्रों को नमो भारत ट्रेन और आरआरटीएस की उपयोगिता, महत्व, आवश्यकता और अत्याधुनिक तकनीकों की जानकारी भी साझा की गई। छात्रों को बताया जा रहा है कि भारत में पहली नमो भारत ट्रेन चल रही है, जो देश का पहला ऐसा प्रोजेक्ट है, जिससे प्रदूषण कम करने में मदद मिलेगी और इसके इस्तेमाल से लोगों के जीवन में भी सुधार आएगा।

छात्रों के लिए आकर्षण का केंद्र बनी नमो भारत
छात्रों को इस बात की भी जानकारी की जा रही है कि नमो भारत ट्रेन पर्यावरण को प्रदूषण मुक्त बनाने में कैसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी और यात्रियों के यात्रा अनुभव को कैसे परेशानी मुक्त और आरामदायक बनाएगी। इसके साथ ही नमो भारत ट्रेन की 160 किमी प्रतिघंटे की परिचालन गति भी छात्रों के लिए बेहद आकर्षण का केंद्र बन रही है। छात्र इस बात को लेकर बेहद खुश नज़र आये कि कुछ ही समय बाद दिल्ली से मेरठ का सफर एक घंटे से भी कम समय में तय किया जा सकेगा।

स्कूली बच्चों में गहरी रुचि जगाई 
अभियान ने स्कूली बच्चों में गहरी रुचि जगाई है, जो नमो भारत ट्रेन के साथ भविष्य की कल्पना करने के लिए चित्रकारी की प्रतियोगिता में अपनी कल्पनाओं का प्रयोग कर रहे हैं। प्रतियोगिता सत्र के दौरान, छात्रों ने देश की पहली नमो भारत ट्रेन और आरआरटीएस के बारे में ख़ासी जिज्ञासा दिखाई है। 
वर्तमान में नमो भारत ट्रेन साहिबाबाद से मोदीनगर नॉर्थ तक 34 किमी के सेक्शन में संचालित की जा रही है। दिल्ली-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर की लंबाई 82 किलोमीटर है और कॉरिडोर के बाकी हिस्से में निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। सम्पूर्ण कॉरिडोर पर नमो भारत ट्रेन चलाने का लक्ष्य जून 2025 है।
 

Also Read

मेरठ के सरधना सीएचसी के खुले परिसर में दुष्कर्म पीड़िता किशोरी ने मृत बच्चे को दिया जन्म, सोते रहे जिम्मेदार

24 May 2024 09:10 PM

मेरठ इंसानियत शर्मसार : मेरठ के सरधना सीएचसी के खुले परिसर में दुष्कर्म पीड़िता किशोरी ने मृत बच्चे को दिया जन्म, सोते रहे जिम्मेदार

स्वास्थ्य कर्मचारी डयूट पर थे वो आराम से सोते रहे। रात भर दर्द से चींखती और कराहती दुष्कर्म पीड़िता किशोरी ने सीएचसी सरधना के परिसर... और पढ़ें