advertisements
advertisements

Agra News : कैमरून से भारत आकर 150 लोगों को लगाया चूना, जानें कैसे की 15 करोड़ की...

कैमरून से भारत आकर 150 लोगों को लगाया चूना, जानें कैसे की 15 करोड़ की...
UPT | पुलिस की गिरफ्त में विदेशी ठग।

Apr 04, 2024 17:59

दुनिया के तमाम युवा और छात्र-छात्राएं भारत में पढ़ने के लिए आते हैं। भारत आकर पढ़ाई करने वाले सभी विदेशी छात्रों को भारत सरकार की सभी गाइडलाइंस का अनुपालन करना पड़ता है। तभी उन्हें...

Apr 04, 2024 17:59

Agra News : दुनिया के तमाम युवा और छात्र-छात्राएं भारत में पढ़ने के लिए आते हैं। भारत आकर पढ़ाई करने वाले सभी विदेशी छात्रों को भारत सरकार की सभी गाइडलाइंस का अनुपालन करना पड़ता है। तभी उन्हें अपनी शिक्षा के लिए भारत सरकार वीजा उपलब्ध कराती है। आगरा पुलिस ने दक्षिण अफ्रीका के कैमरून मूल के छात्रों को ठगी के मामले में गिरफ्तार किया है। भारत में शिक्षा ग्रहण करने के लिए आए विदेशी छात्र ई-कॉमर्स साइट पर जाकर भारतीयों के साथ ठगी का काम कर रहे थे। थाना हरीपर्वत पुलिस ने ई-कॉमर्स साइट पर प्रोडक्ट बेचने के बहाने व्यापारी से ठगी करने वाले दो विदेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया है। दोनों आरोपी तीन साल से स्टडी वीजा पर नोएडा में रह रहे थे। वहीं से ये अपना नेटवर्क चलाते थे।

क्या है पूरा मामला
भारत में कैमरून मूल के छात्र पढ़ने के लिए आए थे। लेकिन, यहां पर आकर लोगों से ठगी करने का धंधा करने लगे। पढ़ाई के लिए वीजा लेकर आए कैमरून के दो युवकों ने ऐसा गिरोह बना डाला, जिसके खुलासे के बाद पुलिस भी हैरान रह गई। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि जनवरी महीने में हरीपर्वत थाना क्षेत्र के आलू व्यापारी राजीव पालीवाल आठ लाख रुपये की साइबर ठगी का मुकदमा दर्ज कराया था। उन्होंने बताया कि दिसंबर में उन्होंने आलू की बोरी खरीदने के लिए ऑनलाइन 3.50 लाख का ऑर्डर दिया था। मगर ठगों ने नई-नई स्कीम बात कर करीब आठ लाख रुपये की ठगी कर ली।

ऐसे की व्यापारी के साथ ठगी
एसीपी आदित्य कुमार ने बताया कि आगरा के बलोखरा फतेहाबाद के रहने वाले व्यापारी राजीव पालीवाल को जूट की बोरियों की आवश्यकता थी। इन्होंने ऑनलाइन सर्च किया तो इन्हें भीमराज इंडस्ट्रीज के नाम से एक फर्म दिखाई दी। इस फर्म का GST एवं अन्य सभी सरकारी दास्तावेज उपलब्ध थे। इन्होंने कंपनी से संपर्क किया और इन लोगों से बातचीत की। इन लोगों ने पीड़ित को बताया कि कम मूल्य पर इन्हें अच्छी गुणवत्ता के जूट के बोरे उपलब्ध करा दिए जाएंगे। एसीपी ने बताया कि आगरा के व्यापारी ने इन ठगों को 8 से 9 लाख रुपये ट्रांसफर कर दिए। लेकिन, जब पीड़ित को लंबे समय तक माल की डिलीवरी नहीं हुई तो इन्होंने इंक्वारी की। तब पता चला कि इनके साथ बड़ी ठगी हुई है। पीड़ित ने आगरा के साइबर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई और पुलिस ने मामले में जांच शुरू की।

अब 15 करोड़ की ठगी
एसीपी आदित्य कुमार ने बताया कि पीड़ित की प्राथमिकी दर्ज करने के बाद साइबर थाना पुलिस ने जांच शुरू की। जांच में पुलिस ने पता लगाया कि ई कॉमर्स साइट को कौन ऑपरेट कर रहा है और कहां से संचालित की जा रही है। जानकारी मिली कि गौतमबुद्ध नगर में ये लोग अपने नेटवर्क को संचालित कर रहे हैं। पुलिस को जानकारी मिली कि गौतमबुद्ध में रहने वाले दो कैमरून मूल के नागरिक इसे संचालित कर रहे हैं। एसीपी हरीपर्वत ने बताया कि ये लोग अलग-अलग लोगों से अलग-अलग साइट पर विभिन्न प्रोडक्ट्स को लेकर लोगों को भ्रमित कर ठगने का काम करते हैं। ये लोग अब तक 100 से 150 लोगों से करीब 14 से 15 करोड़ रुपये की ठगी कर चुके हैं। ये व्यापारियों से पैसे लेने के बाद उनका माल की डिलीवरी नहीं करते थे।

तीन साल से ग्रेटर नोएडा में रह रहा है एक आरोपी
आदित्य कुमार ने बताया कि ठगी करने वाले आरोपियों में से एक 06 माह पहले भारत आया है, जबकि दूसरा आरोपी एजुकेशन वीजा पर 3 साल से भारत आया था। ये रिफ्यूजी लोग हैं। दक्षिण अफ्रीका के कैमरून से संबंध रखते हैं। जांच में अभी तक ये दो लोग ही सामने आए हैं। एसीपी ने बताया कि यह एक बड़ा खुलासा है, जिसकी जानकारी भारत सरकार से भी साझा की जा रही है। सहायक पुलिस आयुक्त ने बताया कि साइबर टीम ने ई कामर्स साइट के आईपी एड्रेस के माध्यम से दोनों कैमरून निवासी अकुम्बे बोमा और माइकल बूनेवा को गिरफ्तार किया गया है। 

Also Read

मुखराई गांव के बाशिंदे नहीं करेंगे मतदान, पंचायत में लिया फैसला

19 Apr 2024 01:22 AM

मथुरा लोकसभा चुनाव 2024 : मुखराई गांव के बाशिंदे नहीं करेंगे मतदान, पंचायत में लिया फैसला

गोवर्धन  मथुरा लोक सभा क्षेत्र 17 के पर्यटन गांव मुखराई में ग्रामीणों ने जनप्रतिनिधियों द्वारा विकास कार्य न कराए जाने से नाराज होकर चुनाव के बहिष्कार का ऐलान... और पढ़ें