advertisements
advertisements

बलिया से अच्छी खबर : सरयू नदी में कटानरोधी कार्य शुरू होने से किसान हुए खुश, बनाए जा रहे दो ठोकर

सरयू नदी में कटानरोधी कार्य शुरू होने से किसान हुए खुश, बनाए जा रहे दो ठोकर
UPT | बोरियां डालकर बनाया जा रहा बेस

Apr 04, 2024 18:19

बांसडीह तहसील क्षेत्र अंतर्गत सरयू नदी में बाढ़ और कटान को रोकने के लिए करोड़ों रुपये की लागत से कटानरोधी कार्य शुरू हो गया है...

Apr 04, 2024 18:19

Ballia News (Akhilanand Tiwari) : बांसडीह तहसील क्षेत्र अंतर्गत सरयू नदी में बाढ़ और कटान को रोकने के लिए करोड़ों रुपये की लागत से कटानरोधी कार्य शुरू हो गया है। यह कार्य डूब और कटान क्षेत्र के अतिसंवेदनशील इलाकों में किया जा रहा है। देखा जाए तो 13 किलोमीटर के अंदर ही कटान को रोकने के लिए दो ठोकर बनाए जाएंगे।

टीएस बंधे पर चल रहा कटानरोधी कार्य
रामपुर नंबरी गांव के टीएस बंधे पर 57 किलोमीटर से लेकर चांदपुर के आगे 70 किलोमीटर के बीच कटानरोधी निर्माण कार्य चल रहा है। इसमें दो ठोकर के साथ ही लांचिंग एप्रान व स्लोप पिचिंग कार्य कराया जाएगा। इस इलाके के रामपुर नंबरी, चितबिसांव, रेंगहां, सुअरहां, महाराजपुर, चांदपुर आदि गांवों से सटे खेत की जमीन के साथ गांवों को नदी के प्रलयंकारी कटान से राहत मिल जाएगी। 

लोगों को राहत मिलने की आशा 
बता दें कि लगातार कई वर्षों से किसानों की हजारों एकड़ कृषि योग्य भूमि सरयू नदी में समाहित हो चुकी है। इससे किसान काफी चिंतित थे। अब कटानरोधी कार्य होने से रामपुर नंबरी से चांदपुर गांव के बाढ़ग्रस्त इलाकों में लोगों को काफी राहत मिलने की आशा है। इसके निर्माण की रूपरेखा बनाकर बोरियों को डालकर बेस बनाने का कार्य किया जा रहा है। उसके बाद इस पर पत्थर डालकर ठोकर का निर्माण किया जाएगा।

मिलेगी राहत या बढ़ेंगी तकलीफें
क्षेत्रीय किसानों ने गुरुवार को बताया कि कटानरोधी कार्य पूरा होने से कटान व बाढ़ की समस्या से निजात मिलेगी। क्षेत्रीय लोगों ने यह भी कहा कि हर बार की तरह इस बार भी अगर काटनरोधी कार्य अधूरा रह गया तो लोगों को राहत मिलने की बजाय उनकी तकलीफें और बढ़ जाएंगी।

Also Read

खेत में लगी अचानक भीषण आग, दस बीघा खड़ी फसल जलकर हुई राख

18 Apr 2024 05:56 PM

बलिया बलिया न्यूज : खेत में लगी अचानक भीषण आग, दस बीघा खड़ी फसल जलकर हुई राख

रसड़ा विकास खंड के दो अलग-अलग गांव में गुरुवार को आग लगने से लगभग 10 बीघा खड़ी फसल जलकर राख हो गई... और पढ़ें