advertisements
advertisements

पांचवी बार फैसला टला : सपा विधायक इरफान सोलंकी को फिर मिली राहत, कोर्ट में जानवर-जानवर कहकर चिल्लाए

सपा विधायक इरफान सोलंकी को फिर मिली राहत, कोर्ट में जानवर-जानवर कहकर चिल्लाए
UPT | सपा विधायक इरफान सोलंकी

Apr 04, 2024 15:10

कानपुर से सपा विधायक इरफान सोलंकी के जाजमऊ आगजनी मामले में पांचवी बार कोर्ट ने फैसला टाला है। कोर्ट ने 6 अप्रैल की तारीख दी है। जानकारी के मुताबिक कोर्ट ने फैसला सुनाने से पहले अभियोजन पक्ष से कुछ बिंदुओं में स्पष्टीकरण मांगा है।

Apr 04, 2024 15:10

Kanpur (सुमित शर्मा) : यूपी के कानपुर से सपा विधायक इरफान सोलंकी को एक बार फिर कोर्ट से राहत मिल गई है। गुरूवार को जाजमऊ आगजनी मामले का फैसला आना था। लेकिन एमपीएमएलए कोर्ट ने पांचवी बार फैसला टाल दिया। कोर्ट ने अभियोजन पक्ष से कुछ बिंदुओं पर स्पष्टीयकरण मांगा है। इसके साथ ही कोर्ट ने 6 अप्रैल की तारीख दी है। इरफान कोर्ट परिसर पहुंचे, तो उनके पूछा गया कि इरफान क्या कहेंगे, तो इरफान चिल्लाने लगे जानवर, जानवर।

जाजमऊ थाना क्षेत्र स्थित डिफेंस कॉलोनी में रहने वाली नजीर फातिमा का प्लाट है। नजीर फातिमा का परिवार प्लाट में ट्टर और छप्पर डालकर रहता है। नजीर फातिमा ने आरोप लगाया था कि सपा विधायक और उनके भाई प्लाट पर कब्जा करना चाहते थे। बीते 7 नवंबर 2022 (सोमवार) को परिवार के साथ एक शादी समारोह में शामिल होने के लिए गए थे। इसी बीच विधायक और उनके भाई ने झोपड़ी में आग लगा दी। पुलिस ने आईपीसी की धारा 147, 327, 427, 386, 504, 436, 506 और 120 के तहत मुकदमा किया था। इस मामले में इरफान सोलंकी और उनके भाई रिजवान समेत सभी आरोपी जेल में हैं। इरफान महाराजगंज जेल में बंद हैं।

सपा विधायक इरफान सोलंकी के वकील का कहना है कि कोर्ट ने अभियोजन पक्ष से कुछ बिंदुओं पर स्पष्टीकरण मांगा है। अभियोजन पक्ष सेम डेट पर सुनवाई करने की मांग कर रहा था। लेकिन कोर्ट ने इसे खारिज करते हुए, 6 अप्रैल की तारीख देदी। इसके साथ ही इरफान की आज आचार संहिता उल्लंघन मामले में भी सुनवाई थी। इस दौरान कोर्ट में बड़ी संख्या में इरफान के समर्थक और उनके परिवारीजन मौजूद थे।
 

Also Read

आईआईटी में निदेशक पद पर हुई नियुक्ति, जानें किसे मिली यह जिम्मेदारी

19 Apr 2024 01:33 AM

कानपुर नगर Kanpur News : आईआईटी में निदेशक पद पर हुई नियुक्ति, जानें किसे मिली यह जिम्मेदारी

सितंबर 2023 में अभय करंदीकर को भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग में सचिव नियुक्त कर दिया गया था। तब से यह पद खाली चल रहा था। प्रो. मणीन्द्र अग्रवाल आईआईटी कानपुर के पूर्व छात्र भी हैं। और पढ़ें