advertisements
advertisements

पिंजरे में कैद हुआ तेंदुआ : 20 घंटे की मशक्कत के बाद ली लोगों ने राहत की सांस, जानिए कैसे आया पकड़ में...

20 घंटे की मशक्कत के बाद ली लोगों ने राहत की सांस, जानिए कैसे आया पकड़ में...
UPT | पिंजरे में कैद तेंदुआ

May 16, 2024 18:09

मिर्जापुर के हलिया थाना क्षेत्र के बेलाही गांव के बरहवा मजरे में घुसे तेंदुआ को पकड़ने में वन विभाग कर्मियों को 20 घंटे लग गए। घर में घुसे तेंदुए...

May 16, 2024 18:09

Mirzapur News (Santosh Gupta) : मिर्जापुर के हलिया थाना क्षेत्र के बेलाही गांव के बरहवा मजरे में घुसे तेंदुआ को पकड़ने में वन विभाग कर्मियों को 20 घंटे लग गए। घर में घुसे तेंदुए के कारण घर के सदस्य घर से बाहर रहे और  तेंदुआ घर में आराम फरमाता रहा। कानपुर से आयी टीम ने तेंदुआ को ट्रेंक्युलाइजर गन से अचेत कर पिंजरे में कैद कर लिया। पिंजरे में तेंदुआ के आने के बाद ग्रामीणो ने राहत की सांस ली। 

बुधवार सुबह से घर में घुसा था तेंदुआ
जंगल से करीब आधा किलोमीटर की दूरी तय करके बेलाही गांव के एक घर में बुधवार की तड़के घुसा तेंदुआ भारी मशक्कत के बाद पकड़ा गया। वन विभाग के साथ ही पुलिस कर्मी हलकान रहे। तेंदुआ के हमले में श्रवण कुमार गंभीर रुप से घायल हो गया। जिसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सूचना मिलने पर पुलिस और वन विभाग की टीम भी मौके पर पहुंची। तेंदुए को पकड़ने के लिए घेराबंदी की गई और लगभग 20 घंटों की मशक्कत के बाद तेंदुए को पिंजरे में कैद किया गया। 
 
एक युवक हुआ था तेंदुए के हमले में घायल
बस्ती में तेंदुए के आने के बाद उसे देखने के लिए लोगों की भीड़ लगी रही। हमले के दौरान बेलाही गांव निवासी 40 वर्षीय श्रवण कुमार घर में सो रहे थे। बुधवार तड़के करीब साढ़े पांच बजे घर से बाहर निकले। घर के बाहर कदम रखते ही तेंदुआ ने श्रवण कुमार पर हमला कर दिया । शोरगुल मचाते हुए श्रवण बाहर की ओर भागे और तेंदुआ घर के भीतर घुस गया। वन कर्मियों ने पिंजरा मंगा कर तेंदुआ को पकड़ने का प्रयास किया। लेकिन सफल नहीं हुए। इसके बाद सूचना पर कानपुर से आयी टीम ने ट्रेंक्युलाइजर गन से अचेत कर तेंदुआ को पिंजरे में कैद किया। इसके बाद लोगों ने राहत की सांस ली।

Also Read

पीएम मोदी की जनसभा में प्रशासन ने किया पत्रकारों के साथ सौतेला व्यवहार

26 May 2024 06:12 PM

मिर्जापुर Mirzapur News : पीएम मोदी की जनसभा में प्रशासन ने किया पत्रकारों के साथ सौतेला व्यवहार

एक पंखा या कूलर तक प्रेस गैलरी में नही लगाया गया था,कई प्रमुख पत्रकारों ने जनसभा प्रारंभ होने के पहले ही अव्यवस्था देख वापस लौटने में ही भलाई… और पढ़ें