लापरवाह शिक्षक : डिजिटल अटेंडेंस पर घमासान के बीच बस्ती में शिक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, कक्षा में सोते पकड़े गए मास्टर साहब

डिजिटल अटेंडेंस पर घमासान के बीच बस्ती में शिक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल, कक्षा में सोते पकड़े गए मास्टर साहब
UPT | लापरवाह शिक्षक

Jul 11, 2024 12:21

एक प्राथमिक विद्यालय में एक सरकारी शिक्षक को कक्षा में सोते हुए देखा गया। यह घटना ऐसे समय में सामने आई है जब राज्य सरकार और शिक्षकों के बीच डिजिटल अटेंडेंस को लेकर विवाद चल रहा है।

Jul 11, 2024 12:21

Basti News : उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में एक घटना ने शिक्षा व्यवस्था की पोल खोल दी है। सल्टौवा ब्लॉक के परसा पुरई गांव स्थित एक प्राथमिक विद्यालय में एक सरकारी शिक्षक को कक्षा में सोते हुए देखा गया। यह घटना ऐसे समय में सामने आई है जब राज्य सरकार और शिक्षकों के बीच डिजिटल अटेंडेंस को लेकर विवाद चल रहा है।

ये भी पढ़ें : इलाहाबाद हाईकोर्ट ने लिया अहम फैसला : असाधारण परिस्थिति में पांच साल की नौकरी पूरी होने से पहले भी ले सकते हैं स्टडी लीव 

शिक्षा व्यवस्था पर उठे सवाल
घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है, जिसमें सहायक अध्यापक नवीन कुमार कक्षा में बेंच पर लेटे हुए नजर आ रहे हैं। स्थानीय लोगों द्वारा बनाया गया यह वीडियो शिक्षा व्यवस्था की वास्तविकता को उजागर कर रहा है। इस घटना ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं। क्या डिजिटल उपस्थिति प्रणाली वास्तव में शिक्षकों की कार्यकुशलता बढ़ाएगी? क्या यह प्रणाली शिक्षकों पर अनावश्यक दबाव डाल रही है? और सबसे महत्वपूर्ण, इस तरह की घटनाओं का छात्रों की शिक्षा पर क्या प्रभाव पड़ेगा?

ये भी पढ़ें : चित्रकूट स्काई ग्लास ब्रिज : दरार के बाद सामने आया नया विवाद, निर्माण से पहले ही हो गया भुगतान, उठे सवाल

बेसिक शिक्षा अधिकारी ने क्या कहा
जिले के बेसिक शिक्षा अधिकारी अनूप कुमार ने इस मामले का संज्ञान लेते हुए कहा है कि जांच के बाद दोषी पाए जाने पर उचित कार्रवाई की जाएगी। यह घटना राज्य की शिक्षा व्यवस्था में सुधार की आवश्यकता को रेखांकित करती है। यह घटना उस समय हुई जब सरकार डिजिटल अटेंडेंस लागू करने पर जोर दे रही है, जिसका शिक्षक संघ विरोध कर रहे हैं। 



क्या है डिजिटल अटेंडेंस 
डिजिटल अटेंडेंस प्रणाली शिक्षकों की उपस्थिति सुनिश्चित करने का एक नया तरीका है। इसके तहत, शिक्षकों को स्कूल परिसर में रहते हुए निर्धारित समय पर प्रेरणा ऐप पर अपनी फोटो अपलोड करनी होती है। स्कूल के शुरू होने से पहले, सुबह 7:30 से 7:45 के बीच, और छुट्टी के समय 2:30 से 2:45 के बीच ऐप सक्रिय रहता है। यह व्यवस्था शिक्षकों की समय पर उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिए डिज़ाइन की गई है। हालांकि, शिक्षकों के विरोध के बाद, सरकार ने 30 मिनट का अतिरिक्त समय दिया है, जिससे अब शिक्षक साढ़े 8 बजे तक अपनी उपस्थिति दर्ज करा सकते हैं। यह प्रणाली शिक्षा व्यवस्था में पारदर्शिता और जवाबदेही लाने का प्रयास है, लेकिन इसे लेकर शिक्षक समुदाय में असंतोष भी देखा जा रहा है।

ये भी पढ़ें : यूपी के पूर्व मुख्य सचिव बने साइबर अपराध के शिकार : क्रेडिट कार्ड से की 383 डॉलर की अवैध खरीदारी, पुलिस जांच शुरू

शिक्षकों का विरोध क्यों?
शिक्षकों का कहना है कि जिस समय यह व्यवस्था लागू की गई है वह गलत है। बारिश का मौसम है। कहीं बाढ़ में स्कूल डूबे हैं तो कहीं रास्ते। ऐसे में समय पर कैसे पहुंचेंगे। इसलिए शिक्षकों की मांग है कि हाफ सीएल की व्यवस्था हो और ऐप 24 घंटा खुला रहे। चार दिन देरी पर एक कैज़ुअल लीव काट ली जाए। शिक्षकों की यह भी मांग है कि आपात स्थिति में हाजिरी में ढील दी जाए। शिक्षकों का कहना है कि छुट्टी के वक्त की तय समय सीमा गलत है। अगर कोई इमरजेंसी आ गई तो शिक्षक कैसे जाएगा।

Also Read

नगर पालिका सदन में सर्वसम्मति से प्रस्ताव पास, जिला पंचायत से मिल चुकी मंजूरी

20 Jul 2024 03:35 PM

बस्ती बस्ती का नाम वशिष्ठ नगर : नगर पालिका सदन में सर्वसम्मति से प्रस्ताव पास, जिला पंचायत से मिल चुकी मंजूरी

शनिवार को नगर पालिका सदन में सर्व सम्मति से पारित हो गया। सभासद परमेश्वर शुक्ल पप्पू और प्रफुल्ल श्रीवास्तव ने संयुक्त रूप से प्रस्ताव रखा कि बस्ती का नाम वशिष्ठ नगर किया जाना चाहिए। कहा कि इस आशय का प्रस्ताव पारित कर उत्तर प्रदेश सरकार को भेजा जाना चाहिए, जिस पर सदन ने ध्वनि ... और पढ़ें