advertisements
advertisements

Weather Update : 31 मई को केरल में मानसून की दस्तक, 18 से 25 जून के बीच यूपी पहुंचने के आसार

31 मई को केरल में मानसून की दस्तक, 18 से 25 जून के बीच यूपी पहुंचने के आसार
UPT | Symbolic Photo Monsoon

May 19, 2024 14:49

उत्तर प्रदेश में मानसून आने की संभावित तारीख 18 से 25 जून के बीच की है। उत्तर प्रदेश के कई जिलों में लोग भारी गर्मी से परेशान है जिन्हें मानसून आने से काफी राहत मिलने वाली है...

May 19, 2024 14:49

New Delhi News : मानसून को लेकर भारत मौसम विभाग (IMD) ने पूर्वानुमान जारी किया है। IMD के मुताबिक, इस साल मानसून सामान्य तारीख से एक दिन पहले ही केरल में दस्तक दे सकता है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक, मानसून 31 मई को केरल पहुंचेगा। वैसे केरल में मानसून आने की सामान्य तारीख 1 जून होती है। मौसम विभाग का कहना है कि पूर्वानुमान में अधिकतम 4 दिन कम या ज्यादा होने की संभावना  रहती है। यानी मानसून 28 मई से 3 जून के बीच कभी भी आ सकता है।

यूपी में 18 से 25 जून के बीच आ सकता है मानसून
उत्तर प्रदेश में मानसून आने की संभावित तारीख 18 से 25 जून के बीच की है। उस दौरान यूपी में लोकसभा चुनाव के छठें और सातवें चरण का मतदान होना है। संभावना जताई जा रही है कि बारिश वोटरों को भिगोएगी। उत्तर प्रदेश के कई जिलों में लोग भारी गर्मी से परेशान हैं, जिन्हें मानसून आने से काफी राहत मिलने वाली है। विभाग के मुताबिक, बंगाल की खाड़ी में अंडमान और निकोबार द्वीप समूह पर मानसून के दो दिन पहले यानी 19 मई को ही पहुंचने की संभावना है, जबकि वहां मानसून के दस्तक देने की सामान्य तारीख 21 मई है। पिछले साल भी मानसून ने अंडमान-निकोबार द्वीप समूह में 19 मई को ही दस्तक दी थी, लेकिन केरल में 9 दिन देरी से 8 जून को पहुंचा था।

इस साल अच्छी बारिश का अनुमान
क्लाइमेट (जलवायु) के दो पैटर्न होते हैं, अल नीनो और ला नीना। पिछले साल अल-नीनो सक्रिय था, जबकि इस बार अल-नीनो की परिस्थितियां इसी हफ्ते खत्म हुई हैं। संभावना है कि तीन से पांच हफ्तों में ला-नीना की परिस्थितियां पैदा हो जाएंगी। पिछले साल अल-नीनो के समय सामान्य से कम 94% बारिश हुई थी। साल 2020 से 2022 के दौरान ला-नीना ट्रिपल डिप के दौरान 109%, 99% व 106% बारिश हुई थी। IMD का अनुमान है कि इस साल 106% यानी 87 सेंटीमीटर बारिश हो सकती है

जानें क्या है अल नीनों और ला नीना 
अल नीनो : इसमें समुद्र का तापमान 3 से 4 डिग्री बढ़ जाता है। इसका प्रभाव 10 साल में दो बार होता है। इसके प्रभाव से ज्यादा बारिश वाले क्षेत्र में कम और कम बारिश वाले क्षेत्र में ज्यादा बारिश होती है। 
ला नीना : इसमें समुद्र का पानी तेजी से ठंडा होता है। इसका दुनियाभर के मौसम पर असर पड़ता है। आसमान में बादल छाते हैं और अच्छी बारिश होती है।

बदलती रहती है मानसून के केरल पहुंचने की तारीख
IMD के आंकड़ों के मुताबिक, बीते 150 साल में मानसून के केरल पहुंचने की तारीखें काफी अलग रही हैं। साल 1918 में मानसून सबसे पहले 11 मई को केरल पहुंच गया था, जबकि 1972 में सबसे देरी से 18 जून को केरल पहुंचा था। बीते चार साल की बात करें तो 2020 में मानसून 1 जून को, 2021 में 3 को, 2022 में 29 मई और 2023 में 8 जून को केरल पहुंचा था।

Also Read

दिल्ली के बेबी केयर सेंटर में भीषण आग, 7 नवजात की मौत, पांच गंभीर

26 May 2024 09:25 AM

नेशनल आज की सबसे दुखद खबर : दिल्ली के बेबी केयर सेंटर में भीषण आग, 7 नवजात की मौत, पांच गंभीर

दिल्ली के एक बेबी केयर सेंटर में शनिवार देर एक इस अग्निकांड से 12 बच्चों को निकाला गया। अग्निकांड से बाहर निकाले गए 12 में छह नवजात बच्चों ने दम तोड़ दिया। एक और नवजात का शव निकाला गया। कुल सात नवजात बच्चों की मौत हुई है। इसके अलावा पांच नवजात अस्पताल में भर्ती हैं। और पढ़ें